बुआ की गांड मारी

सुख मनजे नक्की काय असते

सुख मनजे नक्की काय असते, रश्मि कुछ बोली नहीं और लौड़े पर जीभ फेरने लगी.. वो बहुत ज़्यादा मस्ती में आ गई थी। उसकी चूत लौड़े के लिए दोबारा तैयार हो गई थी। वीर .हां तो दोस्तों हम कल सब मआउंटिंग पर चलेंगे...इसलिए सब अपने अपने गरम कपड़े तय्यार रखना और पहन के निकलना.. और जिसके पास नही है अभी तो अभी हम सन डिन्नर करने के बाद घूमने निकलते हैं और शॉपिंग भी कर लेते हैं कुछ ...

हरदयाल को ऐसा महसूस हुआ जैसे किसी बड़े ही मुलायम , गुदाज़ हथेलियों ने उसके लौडे को बूरी तरेह जाकड़ लिया हो ... जय को तो कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि अब वो क्या करे.. वो एक कोने में बैठ गया और बियर पीने लगा.. मगर बार-बार वो उस कमरे की तरफ़ देख रहा था.. जिसमें रश्मि और रंगीला गए थे।

साना ने अपने ऑफीस का ड्रेस उतार दिया था ..जिसे पहने वो सो गयी थी ..और अब उसके बदन पर एक ढीला सा टॉप था और उतना ही लूज़ और पतला पाजामा ...ब्रा और पैंटी साना ने पहनी नही थी .... सुख मनजे नक्की काय असते नहिना.. वीर रूको ना , अभी तुमको मैं सॉफ्टी खा के दिखाती हूँ. नहिना पीछे मुड़ती है कि ऑर तेज़ी से अपने लिप्स वीर के लिप्स पर रख चूसने लगती है..

आंध्रा बैंक बैलेंस इंक्वायरी नंबर

  1. सोहन बहोत देर से कण्ट्रोल कर रहा था लेकिन अब उससे नही हो रहा था...ऊपर से सुहानी के मुह की गर्माहट ने उसे पागल कर दिया...उसके सुपाड़े के इर्द गिर्द घूमती हई सुहानी की जुबान ने आग में घी डालने का काम किया....
  2. सोहन:-उफ्फ्फ्फ़ सच में ये तो बिलकुल उस कल।वाली पोर्न स्टार जैसी लग रही है....सोहन चुप बैठ क्या कर रहा है??...बहन है तेरी...चल अब इसे उठा और बेड पे रख दे.... ప్రియాంక సెక్స్
  3. पापा देखो ना ..प्लीज़ देखो ना मेरी गान्ड ...कितनी खूली है ...सूराख अब इतना टाइट नही ...आप का लंड आराम आराम से जाएगा ....आओ ना मेरे उपर पापा ..देखो ना..प्लीज़ पापा ..मैने कितनी तैयारी भी की है ..देखो ना .. कोमल ने लाइट पिंक स्लीब लैस टॉप और ब्लैक शॉर्ट स्कर्ट पहना हुआ था.. जिसमें उसका यौवन और भी अच्छा लग रहा था।
  4. सुख मनजे नक्की काय असते...वीर..संजू के फॉरहेड पर किस कर उसे गुड नाइट बोल लेट जाता है..ऑर संजू भी वीर के गाल पर किस कर लेट जाती है.. म्र्स डी' सूज़ा भागते हुए किचन की ओर जाती है और पिज़्ज़ा और केक का बड़ा सा टूकड़ा एक प्लेट में लाती है और साना को खीलाती है ..
  5. बिस्वा के पैदल चलने से उसके घुटनो मे दर्द होने लगता है..ऑर उसके घुटने छिल जाते है..ऑर बिस्वा के मुँह से हल्की हल्की सिसकिया निकलने लगती है विजय- हाँ जानता हूँ.. आप अपने गेम के लिए कुछ भी कर सकते हो और मुझे पक्का यकीन है.. आप गुड्डी को मना भी लेंगे और गेम को जीत भी जाएँगे।

लड़कियों को देखना

कुछ देर बाद वो वहाँ पहुँच गए और जय ने वहाँ अपने कुछ खास दोस्तों से रश्मि को मिलवाया.. जिनमें साजन और उसके दोस्त भी थे।

रश्मि- किसकी इतनी हिम्मत है.. जो ऐसा करे.. वैसे भी आप ही बहुत हो मेरे मज़े लेने के लिए.. चलो हटो मुझे बाथरूम जाना है.. दो चार बार दरार में जीभ फिराता है ..जीभ के छूने से और जीभ की लार के ठंडे ठंडे टच से साना सीहर उठ ती है ...और फिर हरदयाल उसकी गान्ड के गोश्त को अपने होंठों से जाकड़ लेता है और बूरी तरेह चूस्टा है...मानो गान्ड के अंदर का पूरा माल अपने मुँह में लेने को तड़प रहा हो....

सुख मनजे नक्की काय असते,जेम्स- मेरा नाम तो तुझे पता होगा मगर मेरे बारे में जानने के लिए तुझे याद दिलाना होगा.. आशा के बारे में.. जिसकी मौत का ज़िम्मेदार तू है.. समझा.. कुत्ता मैं नहीं तू है.. जो प्यार का नाटक करके भोली-भाली लड़कियों की जिंदगी से खेलता है।

रानी- हाँ ये सही रहेगा.. वैसे भी चूत बहुत गर्म है.. जल्दी पानी निकल जाएगा.. उफ़फ्फ़ गीली तो पहले से हो गई..

साजन- अबे सालों आज बस छूकर मज़ा लूँगा.. भोगने का अभी सोचो भी मत और तुम कोई ऐसी हरकत ना करना जिससे काम बिगड़ जाए। वहाँ और भी लड़कियाँ होगीं.. उनसे चिपक कर मज़ा लेते रहना.. मगर रश्मि के पास भी नहीं फटकना समझे..ಯೂಟ್ಯೂಬ್ ಡೌನ್ಲೋಡಿಂಗ್

लेकिन शायद सिचुयेशन डिस्चार्ज की तरफ जा रही थी इसलिए बाजी अली भाई के नीचे से निकलीं और उनको सीधा लिटाकर लंड के ऊपर घोड़ी (पीठ अली भाई की तरफ और चेहरा भाई के पैर की तरफ) पोज़ीशन में बैठ गईं और उनकी गान्ड बहुत तेज़ी से आगे और पीछे की तरफ मूव कर रही थी। संजू...तो क्या हुआ मैं तुम्हारे बिना नही रह सकती चाहे जो हो जाए..अगर साथ नही रख सकते तो मुझे मार दो *

फिर उसने अपनी पैंटी को उतरा और अपनी चूत को देखने लगी। उसकी चूत गीली होने लगी थी। वो अपनी चूत के भी फ़ोटो खीचने लगी। चूत फैलाके अंदर के गुलाबी हिस्से की तस्वीर लेके जब उसने देखा तो वो खुद ही कुछ जादा ही उत्तेजित हो गयी।

वीर...डॅड वो अंडरवर्ल्ड के बॉस टोनी के आदमी थे..मैने टोनी के भाई को मार दिया था. फिर वीर सबको सब बता देता है.,सुख मनजे नक्की काय असते निदा के एस॰एस॰सी॰ में मार्क्स काफी अच्छे थे इसलिए सोबिया ने उसका एडमिशन शहर के अच्छे कॉलेज में करवा दिया और उसकी फीस देने का भी वादा कर लिया। छोटा भाई अभी गवर्नमेंट स्कूल में ही था कि इस स्टेज पर उसका स्कूल चेंज नहीं किया जा सकता था।

News